तैयारी शुरू, निर्भया’ के दोषियों को 16 दिसंबर को फांसी

नई दिल्‍ली. देश की राजधानी नई दिल्‍ली में 16 दिसंबर 2012 की रात गैंगरेप (Gang Rape) की ऐसी वारदात हुई थी, जिससे पूरा देश हिल गया था. अब निर्भया गैंगरेप (Nirbhya Gangrape) के दोषियों (Convicts) को 16 दिसंबर को फांसी दी जा सकती है. सूत्राेंं के मुताबिक, सभी दोषियों को फांसी देने की तैयारी शुरू हो चुकी है. जिस जगह फांसी दी जानी है, वहां साफ-सफाई का काम भी शुरू हो गया है. सूत्रों के मुताबिक, सभी दोषियों को मेरठ के पवन जल्‍लाद (Pawan Jallad) फांसी देंगे.

राष्‍ट्रपति के पास लंबित है दोषी विनय शर्मा की दया याचिका
बता दें कि मामले में एक दोषी विनय शर्मा की तरफ से राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास दाखिल की गई दया याचिका को गृह मंत्रालय ने नामंजूर करने की सिफारिश की है. उम्मीद की जा रही है कि गृह मंत्रालय की सिफारिश के बाद राष्ट्रपति जल्द ही दया याचिका पर फैसला लेंगे. हैदराबाद की डॉक्टर दिशा (बदला हुआ नाम) के साथ गैंगरेप और हत्‍या के बाद शव को जलाने का मामला सामने आने के बाद निर्भया के दोषियों को फांसी देने की मांग ने जोर पकड़ लिया है.

मेरठ के पवन जल्‍लाद ने की थी दोषियों को फांसी देने की मांग

निर्भया मामले में छह दोषियों में एक की जेल में ही मौत हो चुकी है, जबकि एक नाबालिग दोषी सजा काटकर जेल से बाहर आ चुका है. मेरठ के पवन जल्लाद ने बताया कि दिल्‍ली सरकार की ओर से मुझे बुलाया गया है. पवन जल्‍लाद निर्भया कांड के दोषियों को फांसी देने की मांग उठाई थी. उन्होंने कहा था कि ऐसे जघन्‍य कांड के गुनहगारों को फांसी ही देनी चाहिए, ताकि दूसरे अपराधी भी इसको देखकर डर जाएं. उनके मन में भी ऐसा अपराध करने से पहले फांसी का खौफ रहे. पवन जल्लाद ने बताया कि फांसी से पहले ट्रायल होता है, ताकि फांसी के समय गलती न हो.

निर्भया के पिता ने कहा, सुनवाई के बाद ही कुछ कहेंगे
निर्भया के पिता ने कहा कि आधिकारिक रूप से कोई बात नहीं कही गई है. ऐसे में हम कुछ नहीं कर सकते. कल कोर्ट की तारीख पड़ी हुई है. 13 तारीख को सुनवाई होनी है. वहां जो होगा, उसके बाद ही हम कुछ कहेंगे. मां ने कहा है कि मेरे पास इसकी कोई जानकारी नहीं है. कल कोर्ट में सुनवाई की तारीख पड़ी हुई है. वहां पर जो होता है, उसके बाद ही हम कुछ कह सकेंगे. हालांकि उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि फांसी हो.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *