साल का अंतिम दिन कड़ाके की सर्दी की चपेट में रहा, बैतूल, छिंदवाड़ा, पचमढ़ी में बारिश

भोपाल। Madhya Pradesh Weather Update साल का अंतिम दिन कड़ाके की सर्दी की चपेट में रहा। कुछ जिलों में बारिश हुई। जबकि अन्य जगह देर तक कोहरा छाया रहा। दतिया 1 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान के साथ प्रदेश में सबसे ठंडा रहा। ठंड से पक्षियों की मौत भी हो गई।जबलपुर में शाम को बारिश हुई।बैतूल में बारिश से कृषि उपज मंडी परिसर में रखी उपज भीग गई।

इसके अलावा छिंदवाड़ा, पचमढ़ी, तवानगर, होशंगाबाद में भी बारिश हुई। अन्य जिलों में दिन भर धुंध छाई रही और धूप नहीं निकली। दिन में भी लोग अलाव जलाकर तापते देखे गए। सर्वाधिक फजीहत रेल यात्रियों की हुई। ट्रेनें घंटों तक देरी से चलने के कारण वे स्टेशन पर तेज सर्दी के बीच इंतजार करते देखे गए।

भीषण ठंड के दौर में बने वेदर सिस्टम के कारण प्रदेश में बरसात भी शुरू हो गई है। इससे दिन में भी ठिठुरन बढ़ गई है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक अभी 3-4 दिन तक मौसम का मिजाज इसी तरह बने रहने की संभावना है। मौसम साफ होने के बाद कड़ाके की सर्दी का सिलसिला फिर शुरू होगा।

उधर, मंगलवार को ग्वालियर, खजुराहो, भोपाल, सागर, नौगांव, श्यौपुरकला, टीकमगढ़, दमोह, गुना, सतना में तीव्र शीतल दिन रहा। नरसिंहपुर, जबलपुर, बैतूल, रीवा, सीधी, राजगढ़, रतलाम, शिवपुरी में शीतल दिन रहा। मंगलवार को पचमढ़ी में 5, नरसिंहपुर में 4, बैतूल में 3, होशंगाबाद में 0.5 मिमी बरसात हुई। भोपाल, जबलपुर में बूंदाबांदी हुई।

मौसम विज्ञान केंद्र के प्रवक्ता के मुताबिक पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से उत्तर भारत के पहाड़ी क्षेत्रों में बर्फबारी हो रही है। उधर, एक ऊपरी हवा का चक्रवात उत्तरी गुजरात और उससे लगे हरियाणा, राजस्थान पर बना हुआ है। इसके अतिरिक्त पूर्वी और पश्चिमी हवाओं का मध्य भारत क्षेत्र में टकराव हो रहा है।

इससे बड़े पैमाने पर आ रही नमी से बादल छा गए हैं। साथ ही रुक-रुककर बरसात का दौर शुरू हो गया है। मौसम विज्ञानी जेपी विश्वकर्मा ने बताया कि अभी तीन जनवरी तक मौसम साफ होने की संभावना नहीं है। इसके बाद बादल छंटना शुरू होंगे और कड़ाके की ठंड का एक और दौर शुरू होगा।

अशोकनगर के स्कूलों में अवकाश घोषित

अशोकनगर कलेक्टर ने शीतलहर के कारण सभी स्कूलों में अवकाश 4 जनवरी तक बढ़ा दिया है। पहले यह 31 दिसंबर तक घोषित था। बैतूल में भी इसी अवधि में अवकाश रहेगा। छिंदवाड़ा में नर्सरी से कक्षा 8 तक के लिए 3 जनवरी तक अवकाश रहेगा। जबकि कक्षा 9 से 12 की कक्षाएं सुबह 10.30 से शाम 4.30 तक चलेंगी।

जबलपुर में सर्दी के चलते स्कूलों में 4 जनवरी तक बढ़ी छुट्टियां

जबलपुर। जिले में शीतलहर के चलते छोटे बच्चों के स्वास्थ्य की दृष्टि को देखते हुए स्कूलों में शीतकालीन अवकाश में जिला प्रशासन ने वृद्धि कर दी है। छात्र-छात्राओं के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पडऩे की संभावनाओं को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्टर ने नर्सरी से कक्षा 8 वीं तक के लिए 4 जनवरी तक अवकाश घोषित कर दिया गया है। यह अवकाश सभी शासकीय, अशासकीय, अनुदान प्राप्त, प्राथमिक, माध्यमिक शालाओं सीबीएसई, आईसीएसई बोर्ड में लागू होगा।

हालांकि कक्षा 9वीं से 12 वीं की कक्षाओं में अवकाश लागू नहीं होगा जिसका मुख्य वजह बोर्ड परीक्षाएं नजदीक होना भी है। लेकिन ये कक्षाएं 9.30 बजे के पूर्व संचालित नहीं की जाएंगी। कलेक्टर ने साफ कहा है इस अवधि के दौरान शिक्षकों का किसी भी तरह का अवकाश नहीं रहेगा। शिक्षकों को स्कूल में उपस्थित होना अनिवार्य होगा। इस दौरान स्कूल में छात्रों की मैपिंग, अपडेशन, परीक्षा संबंधी एवं अन्य आवश्यक कार्य संपादित करेंगे।

30 से ज्यादा तोते मृत मिले

ग्वालियर अंचल। अंचल में ठंड का कहर बढ़ता ही जा रहा है। सोमवार-मंगलवार की रात दतिया का न्यूनतम तापमान 1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो प्रदेश में सबसे कम बताया गया है। कड़ाके की ठंड पशु-पक्षियों के लिए जाललेवा साबित हो रही है। दतिया में एक आरक्षक के सरकारी आवास में 30 से ज्यादा तोते मृत मिले वहीं ग्वालियर में किले के पास विनयनगर क्षेत्र में पक्षियों की मौत हो गई।

अचंल के कई जिले सुबह से ही कोहरे के आगोश में नजर आए। इतना ही नहीं पेड़ों व फसलों पर भी ओस की बूंदे बर्फ में तब्दील दिखीं। ऐसी सर्दी मंे अलाव ही लोगों को राहत दे पा रहा है। दतिया में पुलिस लाइन के क्वाटर स्थित पेड़ पर रहने वाले लगभग तीन दर्जन पक्षी मृत अवस्था में जमीन पर पड़े मिले। आरक्षक सोबरन सिंह के आंगन में पड़े इन तोतों का चेहरा ठंड से झुलसा साफ नजर आ रहा है।

बताया जा रहा है कि ठंड के चलते ही इन पक्षियों की मौत हुई है। छतरपुर में कम दृश्यता के चलते मंगलवार को खजुराहो आने वाली एयर इंडिया और विस्तारा की फ्लाइट रद्द कर दी गई। लगातार ठंड से किसानों के चेहरे पर भी मायूसी छाने लगी है। हरी सब्जियों और मटर, अरहर एवं चना और सरसों पर फूल झड़ने की आशंका बढ़ गई है।

शहर अधिकतम न्यूनतम

भोपाल18.59.4

इंदौर23.712.4

जबलपुर18.58.6

ग्वालियर12.23.0

ग्वालियर-चंबल और बुंदेलखंड अंचल के जिलों का तापमान

छतरपुर3.5 9.8

शिवपुरी414

श्योपुर4.614

मुरैना616

भिंड717

अशोकनगर 6 17.6

गुना 6 17.6

सागर 6.8 15.8

रायसेन 7 18.5

बैतूल 8 20

राजगढ़ 9.4 21.2

विदिशा 9.5 18

छिंदवाड़ा 12 20

सीहोर 10 18.5

1 thought on “साल का अंतिम दिन कड़ाके की सर्दी की चपेट में रहा, बैतूल, छिंदवाड़ा, पचमढ़ी में बारिश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *