दिल्ली में आज से चलेगी सीरो-सर्वे का दूसरा चरण

नई दिल्ली। देश दुनिया में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी है। ऐसे में राजधानी दिल्ली में संक्रमण के फैलाव का पता लगाने के लिए सीरो-सर्वे का दूसरा चरण शनिवार यानी आज से शुरू हो रहा है। यह चरण एक अगस्त से 5 अगस्त तक चलने वाला है।
ज्ञात हो कि दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने 22 जुलाई को घोषणा की थी कि पिछले सर्वे के नतीजों का विश्लेषण करने के बाद हर महीने ऐसे और सर्वेक्षण कराए जाएंगे ताकि राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 की स्थिति से निपटने के लिए बेहतर नीतियां बनाई जा सकें।
इन 5 दिनों में लगभग 15,000 सैंपल्स को इकट्ठा किया जाएगा। यह सर्वे नॉर्थ और नॉर्थ-वेस्ट दिल्ली समेत चार जिलों में चलेगा। इस सर्वे में उसी प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा, जो पहले वाले सर्वे में नैशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (एनसीडीसी) की तरफ से किए गए सर्वे में किया गया था। सभी सीडीएमओ को अपने जिलों में सर्वे कराने का काम सौंपा जाएगा। इसके अलावा रैंडम लोगों को एंटीबॉडी के लिए परीक्षण किया जाएगा।
ज्ञात हो कि दिल्ली सरकार ने इससे पहले नैशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (एनसीडीसी) के साथ मिलकर 27 जून से 10 जुलाई तक सीरो-सर्वे कराया था।
सीरो सर्वे में तैनात टीमें चुनिंदा इलाकों में जाकर सैंपल कलेक्ट करेंगी, जिनकी जांच के नतीजों के आधार पर यह पता चलेगा कि कोरोना के खिलाफ एंटीबॉडीज किस तरह डिवेलप हो रही हैं और उनके डिवेलप होने की दर क्या है? ब्लड सैंपल की जांच करके आधे घंटे में यह पता लगाया जा सकेगा कि जिस व्यक्ति का सैंपल लिया गया है, उसके अंदर हर्ड इम्युनिटी विकसित हुई है या नहीं। सैंपल की जांच के लिए एक विशेष किट का इस्तेमाल किया जाएगा। सभी सैंपल्स की जांच के आधार पर एनसीडीसी एक रिपोर्ट तैयार करके सरकार को सौंपेगी।

अगर कोई व्यक्ति कोरोना की चपेट में आता है, लेकिन उसके अंदर कोई लक्षण नहीं उभरता है, तो ऐसे लोगों के शरीर में 5-7 दिन के अंदर अपने आप एंटीबॉडी बनना शुरू हो जाती हैं, जो वायरस को शरीर में पनपने नहीं देती हैं। सर्वे से इन्हीं एंटीबॉडीज की जांच करके यह पता लगाया जाएगा कि दिल्ली में कौन कौन से ऐसे इलाके हैं और ऐसी कितनी आबादी है, जहां लोगों को कोरोना हुआ, मगर वो अपने आप ठीक भी हो गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *